​”मिशन-समृद्धि””

“समृद्धि की रोटी अभियान” अपने मिशन में लाख कठिनाइयों के बावजूद भी अपने कार्य के प्रति निष्ठाशान है।मंगलवार यानि 13सितम्बर को रोटी डालटनगंज के जनकपुरी मुहल्ले से संग्रह कर ली गईं ।उस दिन पोखराहा के गोबरदाह और कोवाबांग्ला में रोटी वितरण की जाती है।

हमारी टीम रोटी के झोले के साथ घंटों खड़ी रहीऑटो के लिए लेकिन किसी भी ऑटो में इतनी जगह नहीं थी कि हम तीन महिला बैठ सके ।

हमलोगों को पुनः रेलवे स्टेशन आकर भोजन वितरण करना पड़ा ।जाने समय तो ऑटो मिल गया था परंतु आने समय रात के 08 बजे गये थे हमें सवारी नहीं मिल पाया और कीचड़ एवं फिसलन भरे रास्ते को पार करते हुए अपने-अपने घर पहुँचे ।यह बातें मैं बहादुरी बटोरने के लिए नहीं बल्कि इनके जज्बे को सलाम करने के लिए लिखी हूँ ।आप सब बुद्धिजीवी वर्ग सदैव ही ‘समृद्धि की रोटी’एवं’समृद्धि की पाठशाला ‘ पर नजर रखते हुए अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हैं चाहे वह कभी प्रतिकुल भी हो तो हम उसे नकारात्मक रूप से कभी नहीं लेते ।यहाँ के सम्मानित एवं संवेदनशील नागरिकों के बदौलत हमारा अभियान सफलता की ओर बढ़ता जा रहा है।

(मेदिनी नगर -झारखंड )

Advertisements